FD तथा RD किसे कहते हैं? FD तथा RD के बीच अंतर

FD तथा RD किसे कहते हैं? FD तथा RD के बीच अंतर
FD तथा RD किसे कहते हैं? FD तथा RD के बीच अंतर

FD तथा RD किसे कहते हैं? FD तथा RD के बीच अंतर – दोस्तों कैसे हैं आप सभी? आशा करता हूं आप सभी स्वस्थ होंगे। आज इस आर्टिकल में हम आपको एक बहुत इंपॉर्टेंट टॉपिक पर जानकारी देने जा रहे हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे हैं FD तथा RD के बीच क्या अंतर है? दोस्तों अगर आप FD तथा RD के बीच अंतर जानना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आखरी तक पूरा पढ़िए। आज इस आर्टिकल में हम आपको FD तथा RD के बीच संपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं।

FD तथा RD दो ऐसे शब्द है जो अक्सर हमें सुनने को मिल जाते हैं। जब भी कहीं पर बैंकिंग सेवाओं की बात होती है या फिर हम बैंक जाते हैं तो वहां पर हमें FD तथा RD शब्द बड़ी आसानी से सुनने को मिल जाते हैं। कई बार बैंक मैनेजर हमसे हमारे पैसों की FD RD कराने के लिए कहता है? जिस व्यक्ति ने अपने जीवन काल में पहली बार FD तथा RD शब्द सुना है उसके मन में ढेर सारी कन्फ्यूजन आना स्वाभाविक है।

हम सभी अपने कठिन समय के लिए कुछ धन जमा करके रखते हैं। आमतौर पर लगभग सभी लोग हर महीने अपनी सैलरी का कुछ हिस्सा अपने कठिन समय के लिए बचा कर रखते हैं। पुराने समय में लोग अपने पैसों को जोड़ने के लिए अपने घर पर ही एक गुल्लक जैसा कुछ बनाते थे और उसी में हर महीने पैसे जोड़ते थे। लेकिन अब लोग पैसे जोड़ने के लिए बैंक की सुविधाओं का इस्तेमाल करने लगे हैं। अगर आप बैंक में अपनी जमा पूंजी को बुरे वक्त के लिए सुरक्षित रखना चाहते हैं तो इसके लिए आप FD या RD का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Read More – इन 5 योजनाओं में करें निवेश और पाएं बेहतर रिटर्न

FD तथा RD दोनों ही एक प्रकार से वित्तीय ऑप्शन होते हैं। आप इन दोनों में से किसी भी ऑप्शन के अंतर्गत अपनी जमा पूंजी बैंक में जमा कर सकते हैं। FD तथा RD के अपने-अपने स्थान पर फायदे तथा नुकसान है।

दोस्तों अगर आप भी FD तथा RD के बारे में नहीं जानते तो आपको टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार से FD और RD के बारे में समझाने जा रहे हैं।

FD किसे कहते हैं?

आइए सबसे पहले हम आपको बताते हैं FD किसे कहते हैं? FD का पूरा नाम फिक्स डिपाजिट होता है। इसके अंतर्गत हम एक निश्चित समय अवधि के लिए अपने धन को बैंक में फिक्स कर देते हैं। जितने समय के लिए हम बैंक में अपनी धनराशि को फिक्स करते हैं उस दौरान हम अपने पैसे बैंक से नहीं निकाल सकते। समय पूरा होने के बाद हमें कुछ अतिरिक्त रुपए जोड़कर पूरे पैसे वापस किए जाते हैं।

इस प्रकार पैसे जमा करने के लिए आप मिनिमम 1 वर्ष या अधिकतम जितने चाहे उतने वर्ष का चयन कर सकते हैं। इसे ही FD या फिक्स डिपाजिट कहा जाता है।

RD किसे कहते हैं?

आइए अब हम आपको बताते हैं RD किसे कहते हैं? अगर आपको नहीं पता RD क्या है आपकी जानकारी के लिए बता दूं RD का फुल फॉर्म रिकरिंग डिपॉजिट होता है। RD भी एक प्रकार का FD का रूप है लेकिन इसमें कुछ आसमानताएं होती हैं।

FD तथा RD के बीच मुख्य अंतर

अगर आप FD तथा RD को देखकर कंफ्यूज हैं तो आपको इन दोनों के बीच अंतर जान लेना चाहिए। FD तथा RD के बीच मुख्य अंतर नीचे बताया गया है।

ब्याज

यदि ब्याज के आधार पर तुलना की जाए तो आपको जानकर हैरानी होगी FD पर हमें अधिक ब्याज मिलता है जबकि RD पर हमें कम ब्याज मिलता है।

लोन

यदि हम लोन सुविधा की बात करें तो इसमें आपको एक बेहतरीन ऑप्शन मिल जाता है। यदि आपके पास बैंक में धनराशि की FD या RD है तो आप कुल धनराशि का 90% तक लोन बैंक से प्राप्त कर सकते हैं। यह प्रतिशत RD तथा FD में एक समान रहता है।

समय अवधि

अगर आप अपना धन FD में इन्वेस्ट कर रहे हैं तो आप अपने अनुसार मिनिमम 7 दिन तथा अधिकतम 10 वर्ष का समय चुन सकते हैं। लेकिन RD में अधिकतम 10 वर्ष जबकि मिनिमम समय अवधि 6 महीने की होती है।

ब्याज दर

अगर आपने बैंक में अपने धन की फिक्स डिपाजिट की है तो उसमें आपको हर तिमाही या क्षमाही ब्याज मिलेगा। किंतु RD में आपको पैसा निकालने के समय ही एक बार में ब्याज मिल जाता है।

निष्कर्ष

तो आशा करता हूं अब आपको FD तथा RD के बीच अंतर पता चल गया होगा। यह आज आपके लिए एक छोटी सी जानकारी थी। आज इस आर्टिकल में हमने आपको बताया FD क्या है? RD क्या है? FD तथा RD में क्या अंतर है? आशा करता हूं यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी है इसे अपने दोस्तों के पास शेयर करें। आर्टिकल को आखरी तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*